Tuesday 26th of January 2021 8:57 AM
दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का निधन, कल मनाया था जन्मदिन बिहार में कहीं भी पलट सकते हैं नतीजे, 99 सीटों पर अंतर 2000 से कम बिहार चुनावः पूर्व सीएम राबड़ी देवी बोलीं- हर जगह महागठबंधन को मिल रही जीत, लोग दे रहे रिपोर्ट NEET Result 2020: नीट परीक्षा का र‍िजल्ट जारी NEET Result: रिजल्ट थोड़ी देर में EC ने UP और उत्तराखंड की 11 राज्यसभा सीटों पर चुनाव का किया ऐलान महाराष्ट्र: राज्यपाल के सवाल पर CM उद्धव बोले- मुझे आपसे हिंदुत्व पर सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं यूपीः पूर्व मंत्री आजम खान को राहत, इलाहाबाद हाईकोर्ट से 2 मामलों में मिली जमानत भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजादः पीड़ित परिवार को Y श्रेणी की सुरक्षा दी जाए भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सपा का सत्याग्रह

नए कृषक विधेयक किसानो के साथ बड़ा धोखा उद्योगपतियों को बड़ा लाभ पहुँचाने की साज़िश:- सरफ़राज़ सिद्दीक़ी

aaptaknews.in

केंद्र सरकार नए कृषि विधेयक लाकर एपीएमसी,तथा एमएसपी को ख़त्म करके मंडियो के अस्तित्व पर संकट खड़ा कर देगी।सरकार अम्बानी ,अड़ानी जैसे उद्योगपतियों को मालामाल करना चाहती है।तथा किसानो को सिर्फ़ एक फ़सल उगाने की मशीन बना देना चाहती है।यह बात समाजवादी पार्टी छात्रसभा के निवर्तमान प्रदेश सचिव सरफ़राज़ सिद्दीक़ी ने कही है।

पहला कृषि बिल,कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण)2020 भले ही सुनने मे अच्छा लगे किंतु इसके तहत एपीएमसी ख़त्म कर देने से मंडियो का अस्तित्व स्वतः समाप्त हो जाएगा।एपीएमसी(एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केट कमिटी) के ख़त्म होते निजी कम्पनियों को बढ़ावा मिलेगा और वो मनमाने दाम पर किसान की फ़सल ख़रीदेंगे जिससे किसान को बड़ी हानि उठानी पड़ेगी।इसके अलावा दूसरा क़ानून (कृषक क़ीमत आश्वासन सेवा पर क़रार विधेयक 2020 है) आसान शब्दों मे इसे कोंट्रेक्ट फ़ार्मिंग कहा जा सकता है। कांट्रेक्ट फ़ार्मिंग किसान अगर करता है तो कोई विवाद होने पर वो सिर्फ़ एसडीएम के पास जा सकता है जबकि पहले कोर्ट जा सकता था।इस तरह की पाबंदी क्यूँ लगाई गई इससे सरकार किसानो को बाँध रही है और कोरपोरेट कम्पनियों को खुला छोड़ रही है।तथा उन्हें अब किसी फ़सल की ख़रीद के लिए लाईसेंस की भी ज़रूरत नही होगी।इससे किसानो की निजता एवं शक्ती को सीधे तौर पर नुक़सान होगा।

इसके अलावा एमएसपी को लेकर कोई ठोस व्यवस्था ना होने के कारण किसान की फ़सल की कोई सरकारी क़ीमत सुनिशचित नही होगी।

जिस कारण किसान अपनी फ़सल को औने पौने दामों मे बेचने को विवश होगा।2015-2016 की कृषि गणना के अनुसार देश के 86 फ़ीसदी किसानो के पास छोटी जोत की ज़मीन है या यह वो किसान है जिनके पास दो हेक्टेयर से कम ज़मीन है।उधर इन कानूनो के अमल मे आने से बड़े उद्योगपतियों,व्यापारियों का लाभ होगा और किसान एपीएमसी ,मंडी,एमएसपी ख़त्म होने से कम दामों पर बड़े उद्योगपतियों और व्यापारियों को कम क़ीमत पर बेचने को विवश होगा।

नोएडा: सेक्टर -71 में रविवार को हुए आरडब्ल्यूए चुनाव में सर्वसम्मति से एक नई समिति का गठन किया गया।
December 9, 2020
नॉएडा : सपा के पार्टी कार्यालय पहुंचे लोहिया वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष राम करन निर्मल
December 9, 2020
समाजवादी पार्टी के नोएडा महानगर में कुंवर बिलाल बर्नी को पार्टी में मिली बड़ी जिम्मेदारी
December 9, 2020
किसानों ने की एक और बड़ी घोषणा, कहा- 18 जनवरी को सभी जिला मुख्यालयों पर महिलाएं करेंगी विरोध
December 9, 2020
नॉएडा : सेक्टर - 71 श्री साई अपार्टमेंट, बी 2 ब्लॉक में चुनाव का ऐलान
December 9, 2020
भारतीय किसान यूनियन(भानु) ने नॉएडा के गौरव चाचरा को बनाया मेरठ मंडल उपाध्यक्ष
December 9, 2020
ममता बनर्जी की चुनौती : बंगाल में 30 सीट जीतकर दिखा दे भाजपा
December 9, 2020
गौतमबुद्धनगर :सपा की जिला कार्यकारिणी हुई घोषित
December 9, 2020
जिसका खाना अमित शाह ने बंगाल में खाया उनसे नहीं की कोई बात
December 9, 2020
पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह की जयंती पर समाजवादियों ने दी विनम्र श्रद्धांजलि
December 9, 2020
समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव एवं संस्थापक मदर टेरेसा फाउंडेशनअरशद खान की बेटी की सादगी भरी शादी
December 9, 2020
ग्रेटर नोएडा सिटी पार्क से निकली भारी भीड़ :बिल समर्थक किसानों का नोएडा कूच
December 9, 2020