Saturday 16th of October 2021 8:56 PM
दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का निधन, कल मनाया था जन्मदिन बिहार में कहीं भी पलट सकते हैं नतीजे, 99 सीटों पर अंतर 2000 से कम बिहार चुनावः पूर्व सीएम राबड़ी देवी बोलीं- हर जगह महागठबंधन को मिल रही जीत, लोग दे रहे रिपोर्ट NEET Result 2020: नीट परीक्षा का र‍िजल्ट जारी NEET Result: रिजल्ट थोड़ी देर में EC ने UP और उत्तराखंड की 11 राज्यसभा सीटों पर चुनाव का किया ऐलान महाराष्ट्र: राज्यपाल के सवाल पर CM उद्धव बोले- मुझे आपसे हिंदुत्व पर सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं यूपीः पूर्व मंत्री आजम खान को राहत, इलाहाबाद हाईकोर्ट से 2 मामलों में मिली जमानत भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजादः पीड़ित परिवार को Y श्रेणी की सुरक्षा दी जाए भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सपा का सत्याग्रह

बच्चों को बचपन में ये 5 सबक दें, आपका प्रिय कभी गलत संगत में नहीं पड़ेगा

आजकल, माँ और पिता दोनों के काम करने के कारण, बच्चों को कहीं न कहीं खुली छूट मिलती है। यहां तक ​​कि अगर घर में अन्य लोग हैं, तो उनकी देखभाल करने के लिए, कोई अन्य व्यक्ति उन चीजों को नहीं कर सकता है जो माता-पिता बता सकते हैं या समझा सकते हैं। बच्चों को बचपन में कही गई बातें याद रहती हैं।

 इसलिए जरूरी है कि उन्हें इस उम्र में ऐसे नियम और अनुशासन में बांधा जाए जिससे वह बड़े होकर गलत संगत में न पड़ें और आत्मनिर्भर बनें। बच्चों को अगर शुरू से ही छोटे-छोटे नियमों के पालन की आदत डालवाई जाए तो यह बड़े होकर उनके उज्जवल भविष्य का कारण बनते हैं। इसके लिए जरूरी है कि माता-पिता जब घर के नियम बनाएं तो बच्चों को पहले ही इस बात से अवगत करा दें कि उन्हें हर स्थिति में इन नियमों का पालन करना है।

गुस्से को करें कंट्रोल

अगर माता-पिता बच्चों को सिखाते हैं कि गुस्से को काबू में कैसे रखा जाए, तो उनका भविष्य बेहतर होगा। क्योंकि अगर ऐसा नहीं किया जाता है, तो बड़े होने के बाद भी बच्चे अपने गुस्से को काबू में नहीं रख पाते हैं। अगर घर के बुजुर्ग भी ऐसा करते हैं, तो उन्हें यह आदत बदलनी होगी।

बुरे शब्दों से दूरी

कई बार बच्चे दूसरों को देखते हुए या टीवी देखते हुए गाली देने लगते हैं। उसे लगता है कि इस तरह वह सभी का ध्यान आकर्षित कर सकता है। लेकिन माता-पिता को बच्चों को केवल तब बाधित करना चाहिए जब वे पहली बार उनके मुंह से कोई अपमानजनक शब्द सुनते हैं। बच्चों को समझाएं कि ऐसा करने से उनकी छवि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

गलत व्यवहार से बचें

जब बच्चे घर पर डांटते हैं, तो वे खाना नहीं खाने, चीजों को तोड़ने, गुस्से में दरवाजा बंद करने या छत पर बैठने जैसी चीजें करते हैं। बच्चों को बताएं कि ऐसा करना बड़ों का अपमान है। उन्हें समझाएं कि अगर घर के किसी सदस्य के साथ कोई समस्या है, तो उस पर खुलकर बात करें।

मदद करना सिखाएं

शुरू से ही बच्चों के अंदर सहायक प्रकृति की गुणवत्ता डालें। उन्हें बताएं कि किसी की मदद करने से कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। माता-पिता को बच्चों को बताना चाहिए कि छोटे भाई-बहनों की देखभाल करना और उनकी मदद करना उनकी ज़िम्मेदारी है।

किसी पर निर्भर न हो

बच्चों को यह सिखाना भी ज़रूरी है कि उन्हें हमेशा अपने काम के लिए खुद पर निर्भर रहना चाहिए। बच्चों को खाने के बाद उनकी प्लेटों को धोने से लेकर उनकी बेडशीट साफ करने तक सब कुछ सिखाया जाना चाहिए। यह आदत हमेशा बच्चों के अंदर होती है।

3 बच्चों की मां ने शरीर पर बनवाए 17 लाख रुपये के टैटू!
June 9, 2020
यूपी में स्कूल खोलने के बदले नियम, समय बदलने के आदेश भी जारी
June 9, 2020
पुराने पैटर्न पर होगी नीट सुपर स्पेशियलिटी डीएम परीक्षा, अगले साल होगा बदलाव: सुप्रीम कोर्ट
June 9, 2020
'मार डालो गाड़ दो... हम डरते नहीं' - प्रियंका के साथ पुलिस फोर्स पर बोले राहुल
June 9, 2020
चंद घंटों की बारिश में सड़कों पर जलजमाव, विकास प्राधिकरण का विकास पानी में डूबा
June 9, 2020
गौतमबुद्धनगर के डीएम सुहास एलवाई ने जीता सेमीफाइनल, कल होगा फाइनल मैच
June 9, 2020
किसानों पर लाठीचार्ज सरकार की नाकामी: गौरव यादव
June 9, 2020
आम आदमी पार्टी 1 सितंबर को नोएडा में 'तिरंगा यात्रा' निकालेगी
June 9, 2020
बारिश ने खोले नोएडा व ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पोल, शहर की सड़कें, गांव व सेक्टर तालाब में तब्दील
June 9, 2020
नॉएडा सैक्टर 55 RWA का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हुआ
June 9, 2020
फोनेर्वा के लगातार दूसरी बार अध्यक्ष बने योगेंद्र शर्मा, एनपी सिंह हुए रिटायर
June 9, 2020
यूपी में बैठे हैं, भेज दो जेल, लखनऊ आए तो जाएंगे जेल, बयान पर बीकेयू नेता राकेश टिकैत का पलटवार
June 9, 2020