Monday 3rd of August 2020 9:30 AM

बच्चों को बचपन में ये 5 सबक दें, आपका प्रिय कभी गलत संगत में नहीं पड़ेगा

आजकल, माँ और पिता दोनों के काम करने के कारण, बच्चों को कहीं न कहीं खुली छूट मिलती है। यहां तक ​​कि अगर घर में अन्य लोग हैं, तो उनकी देखभाल करने के लिए, कोई अन्य व्यक्ति उन चीजों को नहीं कर सकता है जो माता-पिता बता सकते हैं या समझा सकते हैं। बच्चों को बचपन में कही गई बातें याद रहती हैं।

 इसलिए जरूरी है कि उन्हें इस उम्र में ऐसे नियम और अनुशासन में बांधा जाए जिससे वह बड़े होकर गलत संगत में न पड़ें और आत्मनिर्भर बनें। बच्चों को अगर शुरू से ही छोटे-छोटे नियमों के पालन की आदत डालवाई जाए तो यह बड़े होकर उनके उज्जवल भविष्य का कारण बनते हैं। इसके लिए जरूरी है कि माता-पिता जब घर के नियम बनाएं तो बच्चों को पहले ही इस बात से अवगत करा दें कि उन्हें हर स्थिति में इन नियमों का पालन करना है।

गुस्से को करें कंट्रोल

अगर माता-पिता बच्चों को सिखाते हैं कि गुस्से को काबू में कैसे रखा जाए, तो उनका भविष्य बेहतर होगा। क्योंकि अगर ऐसा नहीं किया जाता है, तो बड़े होने के बाद भी बच्चे अपने गुस्से को काबू में नहीं रख पाते हैं। अगर घर के बुजुर्ग भी ऐसा करते हैं, तो उन्हें यह आदत बदलनी होगी।

बुरे शब्दों से दूरी

कई बार बच्चे दूसरों को देखते हुए या टीवी देखते हुए गाली देने लगते हैं। उसे लगता है कि इस तरह वह सभी का ध्यान आकर्षित कर सकता है। लेकिन माता-पिता को बच्चों को केवल तब बाधित करना चाहिए जब वे पहली बार उनके मुंह से कोई अपमानजनक शब्द सुनते हैं। बच्चों को समझाएं कि ऐसा करने से उनकी छवि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

गलत व्यवहार से बचें

जब बच्चे घर पर डांटते हैं, तो वे खाना नहीं खाने, चीजों को तोड़ने, गुस्से में दरवाजा बंद करने या छत पर बैठने जैसी चीजें करते हैं। बच्चों को बताएं कि ऐसा करना बड़ों का अपमान है। उन्हें समझाएं कि अगर घर के किसी सदस्य के साथ कोई समस्या है, तो उस पर खुलकर बात करें।

मदद करना सिखाएं

शुरू से ही बच्चों के अंदर सहायक प्रकृति की गुणवत्ता डालें। उन्हें बताएं कि किसी की मदद करने से कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। माता-पिता को बच्चों को बताना चाहिए कि छोटे भाई-बहनों की देखभाल करना और उनकी मदद करना उनकी ज़िम्मेदारी है।

किसी पर निर्भर न हो

बच्चों को यह सिखाना भी ज़रूरी है कि उन्हें हमेशा अपने काम के लिए खुद पर निर्भर रहना चाहिए। बच्चों को खाने के बाद उनकी प्लेटों को धोने से लेकर उनकी बेडशीट साफ करने तक सब कुछ सिखाया जाना चाहिए। यह आदत हमेशा बच्चों के अंदर होती है।

सपा युथ ब्रिगेड ने सरकारी हॉस्पिटल मैं 2000 सिरिंज और 1000 मास्क डोनेट किए
June 9, 2020
राजस्थान में राजनीतिक उथल-पुथल के बीच सचिन पायलट अपने विधायकों के साथ दिल्ली पहुंचे
June 9, 2020
अनुपम खेर के परिवार को भी कोरोना, मां और भाई समेत 4 लोग पॉजिटिव
June 9, 2020
सपा प्रमुख अखिलेश यादव का जन्मदिन जन्मदिन समाजवादियों ने अपने ढंग से मनाया
June 9, 2020
पैट्रोल एवं डीज़ल के मूल्यों में हो रही बेताहास वृद्धि के विरोध में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध किया
June 9, 2020
नोएडा में सामने आई प्रशासन की बड़ी चूक
June 9, 2020
युवाओं के हितों को लेकर सड़क पर आई समाजवादी छात्रसभा, कई कार्यकर्ता किए गए गिरफ्तार
June 9, 2020
शिवपाल यादव ने कार्यकर्ताओं को एक पत्र लिखा, लेकिन पत्र के रंग ने राजनीतिक चर्चा को तेज कर दिया
June 9, 2020
लॉकडाउन के दौरान जमा नहीं हुआ बिजली बिल, अब डिस्कनेक्शन का नोटिस भेजकर हो रही है वसूली
June 9, 2020
जैतपुर महोबा : कैंसर पीड़ित बेटी के लिए दर दर भटक रहा है पिता शासन प्रशासन से नही मिल रही है मदद
June 9, 2020
अखिलेश यादव एक्शन में हैं, अब इन तीन नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया
June 9, 2020
कानपुरः सरकारी आश्रय गृह में 33 कोरोना सकारात्मक लड़कियों में से 2 गर्भवती, हड़कंप मच गई
June 9, 2020