Saturday 16th of October 2021 9:41 PM
दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का निधन, कल मनाया था जन्मदिन बिहार में कहीं भी पलट सकते हैं नतीजे, 99 सीटों पर अंतर 2000 से कम बिहार चुनावः पूर्व सीएम राबड़ी देवी बोलीं- हर जगह महागठबंधन को मिल रही जीत, लोग दे रहे रिपोर्ट NEET Result 2020: नीट परीक्षा का र‍िजल्ट जारी NEET Result: रिजल्ट थोड़ी देर में EC ने UP और उत्तराखंड की 11 राज्यसभा सीटों पर चुनाव का किया ऐलान महाराष्ट्र: राज्यपाल के सवाल पर CM उद्धव बोले- मुझे आपसे हिंदुत्व पर सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं यूपीः पूर्व मंत्री आजम खान को राहत, इलाहाबाद हाईकोर्ट से 2 मामलों में मिली जमानत भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजादः पीड़ित परिवार को Y श्रेणी की सुरक्षा दी जाए भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सपा का सत्याग्रह

पुराने पैटर्न पर होगी नीट सुपर स्पेशियलिटी डीएम परीक्षा, अगले साल होगा बदलाव: सुप्रीम कोर्ट

केंद्र, एनएमसी और एनबीई ने सुप्रीम कोर्ट की इस आलोचना को स्वीकार कर लिया है कि 10-11 नवंबर को होने वाली नीट-सुपर स्पेशियलिटी परीक्षा पुराने प्रश्न पैटर्न के अनुसार आयोजित की जाएगी। एएसजी ऐश्वर्या भाटी ने बताया कि नया प्रश्न पैटर्न अगले साल से लागू होगा।
SC का कहना है कि सरकार इस मामले में बहुत निष्पक्ष रही है.

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा सुपर स्पेशियलिटी (NEET-SS) 2021 के पैटर्न में किए गए “अंतिम मिनट के बदलाव” पर अपनी नाराजगी व्यक्त की। अदालत ने कहा था कि प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत होता है कि इसका इरादा है केवल खाली पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल सीटों को भरें।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, तीन जजों की बेंच की अध्यक्षता कर रहे जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कल की सुनवाई के दौरान नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन (एनबीई) की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह से कहा कि मैंने हलफनामा पढ़ लिया है, अब मैं साबित करना है। कोशिश करें कि यह सब सिर्फ रिक्तियों को भरने के लिए नहीं किया गया है।

अदालत ने कहा कि इस वर्ष परिवर्तनों के साथ जल्दबाजी करने की योजना से बहुत मजबूत धारणा बन रही है कि चिकित्सा शिक्षा एक व्यवसाय बन गई है, और यहां तक ​​कि चिकित्सा विनियमन भी एक व्यवसाय बन गया है. पैटर्न में बदलाव के साथ ही जल्दबाजी में एग्जाम कराने को लेकर कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि उम्मीदवारों को पर्याप्त समय देने के लिए अगले साल से बदलाव किए जा सकते थे. अदालत ने इस साल से ही बदलाव पेश करने की ‘जल्दबाजी’ पर सवाल उठाया. न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि यदि आप अगले साल से बदलाव पेश करते, इतनी क्या जल्दी थी. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 बच्चों की मां ने शरीर पर बनवाए 17 लाख रुपये के टैटू!
October 6, 2021
यूपी में स्कूल खोलने के बदले नियम, समय बदलने के आदेश भी जारी
October 6, 2021
'मार डालो गाड़ दो... हम डरते नहीं' - प्रियंका के साथ पुलिस फोर्स पर बोले राहुल
October 6, 2021
चंद घंटों की बारिश में सड़कों पर जलजमाव, विकास प्राधिकरण का विकास पानी में डूबा
October 6, 2021
गौतमबुद्धनगर के डीएम सुहास एलवाई ने जीता सेमीफाइनल, कल होगा फाइनल मैच
October 6, 2021
किसानों पर लाठीचार्ज सरकार की नाकामी: गौरव यादव
October 6, 2021
आम आदमी पार्टी 1 सितंबर को नोएडा में 'तिरंगा यात्रा' निकालेगी
October 6, 2021
बारिश ने खोले नोएडा व ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पोल, शहर की सड़कें, गांव व सेक्टर तालाब में तब्दील
October 6, 2021
नॉएडा सैक्टर 55 RWA का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हुआ
October 6, 2021
फोनेर्वा के लगातार दूसरी बार अध्यक्ष बने योगेंद्र शर्मा, एनपी सिंह हुए रिटायर
October 6, 2021
यूपी में बैठे हैं, भेज दो जेल, लखनऊ आए तो जाएंगे जेल, बयान पर बीकेयू नेता राकेश टिकैत का पलटवार
October 6, 2021
प्रभारी विजय यादव के नेतृत्व में लोहिया वाहिनी की समीक्षा बैठक हुई : बब्बू यादव
October 6, 2021